Is There Life…After Death

When someone dies, we say, “This person is no more.” That is not true. The person is no more the way you know them, but they still very much exist. The physical body will fall apart, but the mental and pranic body go on, depending upon the strength of the karma. To find another womb, the intensity of this karmic structure should come down, it should become passive. If the karmic structure has become weak because it has run its course, then it finds another body very easily. When one completes his allotted karma for this life, he will die just like that – without disease, accident or injury. That person may find another body within hours.

If one completes his life and dies peacefully, he need not hang around – it goes on immediately. However, if the karmic structure is very intense, unfinished, then it has to finish it. Now he needs much more time to find another body. This is what you are referring to as ghosts. They are more available to your experience because they have more intense karmic structures. There are innumerable such beings all around you, whether you know it or not, but you will not feel most of them because their karma is dissipated. They are just waiting for more dissipation before they find another body.

Where Do We Go When We Die?

This body is a piece of Earth that we have slowly picked up. Whatever we have picked up in body, we have to drop back atom by atom. When it comes to the mind, the discretionary intellect also gets dropped with the process of death. This whole information that is gathered – the subtler body and the subtler mind and the information that is referred to as karma, the software – is still intact, but the discretion is gone.

My Silence…

Means I am tired of fighting and now there’s nothing left to fight for.My silence means I am tired of explaining my feelings, but now I don’t have the energy to explain them any more.My silence means I have adopted to the changes in my life and I don’t want to complaint. My Silence means I am on a self healing process and I am trying to forget everything I am trying to forget everything I ever wanted from you. My Silence means Iam just trying to move on gracefully with all my dignity—neeraj Srivastava.

Father…not everyone

You Might Have a Toxic Father, from Playing the Victim to Comparing You and Your Siblings,

Toxic patterns vary from person to person, but there are a few textbook characteristics to look out for, “Toxic behavior is behavior toward other people that makes them feel bad about their life and themselves,” “It is characterized by criticism, control, manipulation and guilt.” For example, if your dad constantly criticizes your life choices (like badmouthing your spouse or rolling his eyes at your career path), and if this has been an ongoing pattern for as long as you can remember, you might be dealing with a toxic father. Here, nine signs you’re dealing with one, from constantly playing the victim to comparing you to your siblings.Signs You Have Toxic Father

1. He compares you to your siblings

2. He doesn’t respect boundaries

You love your dad, but he’s always had a hard time knowing his place. He’s made a habit of showing up at your house, unannounced, expecting to be able to stay for dinner. Because you love him, you give in, but even after asking him to stop popping in without calling, he continues to do it.

3. He insists on being right

Your dad has hated every person you’ve ever dated, and it’s starting to feel like no one is going to be good enough. He has similar opinions about your career goals, friends and pretty much everything else. If you’ve articulated that you’re happy with your life and the people in it and he still won’t stay out of your business, then your relationship with your dad could be verging on (if not already) toxic.

4. You feel exhausted after spending time or speaking with him

Do you feel totally spent every time you interact with your dad? We’re not talking about feeling like you need to be by yourself for a little while—something that can happen even with people we love being around. Interacting with a toxic person can leave you feeling defeated since their dramatic, needy and high-maintenance tendencies can suck the energy right out of you.

5. He consistently plays the victim

Sometimes, parents can’t help but guilt trip their kids. (“What do you mean, you aren’t coming home for Thanksgiving?”) But there’s a difference between expressing disappointment and creating a toxic environment by blaming everyone else for their feelings. If your dad refuses to talk to you for a week because you’ve decided to spend next Thanksgiving with friends, you could be in toxic territory.

6. He tries to compete with you

Every time you call your dad to talk about a promotion at work or a potty-training breakthrough with your kid, he inevitably steers the conversation to be about his illustrious career or his methods of raising you. Any healthy relationship should be a two-way street, and if your dad is incapable of celebrating your wins—big or small—it’s a sign that there’s an issue.

7. Everything is about him

You just got off a 45-minute phone call with your dad only to realize that he didn’t ask you a single question about your life or how you’re doing. If he was dealing with an important issue or had some exciting news, that’s one thing. But if this happens pretty much every time you talk, then this relationship could be toxic.

8. There are always strings attached

Sure, dad will pick up the grandkids from school, but you’ll never hear the end of how lucky you are to have his help…followed by an immediate request to reorganize his basement. We’re not suggesting our parents should do every little thing for us, but you should be able to ask for a favor without having him hold it over your head or immediately ask for something unreasonable in return.  

9. He’s impossible to please

You’re constantly bending over backward to please everyone in your life—your dad included. Most people are thankful for your flexibility and help, but your dad seems to always want more. If you consistently feel like you’re coming up short in his eyes, it’s not an issue with how you’re doing things, it’s on him. …this is my fair thoughts May be wrong but I invested 28 years to feel so it difficult to explain exactly what is true but always remember true is true .

जीवन के अंतिम क्षण…

कल मेरी यूपी पंचायत राज इलेक्शन में काउंटिंग के लिए गुरसराय ड्यूटी लगी थी आजकल करोना अपने चरम सीमा पर है उसका डर मी आजकल कुछ करने नहीं देता काउंटिंग के बाद आज मैं वापस घर आ रहा था मात्र 70 किलोमीटर दूर है गुरसराय झांसी से मात्र 60 की स्पीड से मैं गाड़ी चला रहा था रिमझिम बरसात हो रही थी ठंडक भी थी अचानक पता नहीं क्या हुआ गाड़ी स्लिप कर गई या मुझ को नींद आ गई सब कुछ उल्टा पुल्टा होने लगा गाड़ी एक तरफ 11 फीट गड्ढे के अंदर चली गई और फेंसिंग को पार करते हुए खेत के अंदर जाकर रुकी पता नहीं क्यों गाड़ी पलटी नहीं लेकिन दुर्घटना बहुत जबरदस्त थी मुझे कुछ पता नहीं लगा मुझे लगा शायद आज मेरा अंतिम दिन होगा इस पृथ्वी पर यकीनन महाकाल के आशीर्वाद से और श्री गणेशा महाराज जी के आशीर्वाद से मैं बिल्कुल ठीक हूं कभी-कभी ऐसा लगता है कि कोई शक्ति आपको बचा रही है धन्यवाद ईश्वर को थोड़ी जिंदगी और देने के लिए…

Importance…

I need you to stop hurting yourself. I need you to stop giving your love to just about anyone. Life is too short to be giving your energy on things and people that don’t matter.

Instead, wait for the one that will love you just the way you deserve.

Be with a man who will choose you each and every day all over again. Someone who will open his heart and give you everything he has.

Be with a man who will never get bored of exploring the map of your body and soul. Someone who will love to dive deep inside every part of you.

Be with a man who will never make you question their love for you. Someone who won’t be afraid to give you the key to his heart.

Be with a man who will get excited by the thought of seeing you. Someone whose eyes will glisten and whose smile will spark the minute that he sees you.

Be with a man who will enjoy planning his future with you. Someone who will be thrilled to spend his entire life beside you. so keep smiling & choose important people wisely ❤️❤️👍

मेरा जीवन…

बात उन दिनों की है जब मैं छोटा था 10th स्टैंडर्ड जीआईसी आगरा में पढ़ता था पापा का ट्रांसफर मेरठ होने से मैंने 12th की पढ़ाई जीआईसी मेरठ में पूरी की यह हर विद्यार्थी का वह समय होता है जब दिल में बहुत अरमान बड़े-बड़े कंपटीशनओं में भाग लेने की इच्छा शक्ति से परिपूर्ण होता है डॉक्टर तो कभी मुझे बनना नहीं था हां एक अच्छी इंजीनियर की चाहत तमन्ना हमेशा मेरे दिल में रही अचानक मेरे पिता का ट्रांसफर मेरे होमटाउन झांसी में हो गया और हम सभी झांसी आ गए मैं आपको बता दूं कि मेरठ आगरा की तुलना में झांसी एक बहुत छोटी सी जगह थी जहां पर एजुकेशन की सुविधाएं सीमित दायरे में थी यहां पर सिविल लाइंस में हमारे दो मकान थे एक में किराएदार पिछले 15 सालों से रह रहा था और एक खाली हुआ था जिसमें हम लोग शिफ्ट हो गए थे.. बस यही से मेरे जीवन के दुर्भाग्य की शुरुआत हुई किराएदार से जब मकान खाली करने के लिए कहा गया तो उसने कई मुकदमे मेरे परिवार पर लगा दिए इसकी वजह से घर में हर समय तनाव चिड़चिड़ापन रहने लगा अक्सर किराएदार से छोटी-छोटी बातों पर लड़ाई भी हो जाया करती थी जिससे मेरी पढ़ाई सबसे ज्यादा प्रभावित होगी आप सोच कर देख सकते हैं नित्य प्रतिदिन झगड़े कभी-कभी पुलिस में एफ आई आर इन सब के रहते एक छोटा बच्चा ट्वेल्थ में तो बच्चा छोटा ही होता है कैसे अपनी जीवन के गाइडलाइन को आगे बढ़ा सकता है इंजीनियर इंट्रेंस देता था रुड़की आईआईटी एम एन आर बहुत से इन कॉलेजों में जाने की चाह रहती थी लेकिन हर जगह कुछ ना कुछ परसेंट से रह जाता था मेरे पेरेंट्स पुराने जमाने के पेरेंट्स की तरह मेरे जीवन की किसी भी चीज में कोई दखल नहीं देते थे कोई गाइड नहीं करते थे बस उनको एक ही टेंशन रहता था कि उनका मकान कब खाली हो घर में हर समय इसी की बातें होती रहती थी केस जिला न्यायालय से उच्च न्यायालय उच्च न्यायालय से उच्चतम न्यायालय में चला कुल 12 वर्ष एवं अट्ठारह case चलने के बाद यह मकान सुप्रीम कोर्ट द्वारा खाली हुआ लेकिन तब तक मेरे जीवन की सही दिशा zigzag होकर इधर-उधर चलते हुए एमएससी एम फिल् तक पहुंच गई थी तभी अचानक एक इंटरव्यू कॉल बिट्स पिलानी राजस्थान से लेक्चरर इन मैथमेटिक्स कि आई जिसको देने में झांसी से दिल्ली गया एवं दिल्ली से पिलानी 4 घंटे लगते हैं वहां पहुंचने में ऐसा वीरान स्थान रेगिस्तान में दुनिया से दूर 2 दिन रहकर मैंने रिटर्न इंटरव्यू दिया यह मैं आपको यह बता दूं कि 1992 में यह वह इंजीनियरिंग कॉलेज है जहां पर उस समय घुड़सवारी की सुविधा मौजूद थी मुझे कुछ पता नहीं था मेरी इंवर्सिटी में एम फिल् पास करने वाले सिर्फ तीन लोग थे मुझे गाइड करने वाला कोई नहीं था कॉलेज वालों ने कहा कि एक weekके अंदर आपको कॉलेज ज्वाइन करना है सैलरी होगी ₹2000 सिलेक्शन की खुशी तो थी लेकिन राजस्थान में रेतीला मैदान देखकर, दुनिया से बिल्कुल आइसोलेटेड कॉलेज देखकर थोड़ा दिल बेचैन हुआ और मेरे घर पहुंचने पर मेरे माता पिता ने कहा सिर्फ 2000 के लिए कहां इतनी दूर जा रहे हो यह मेरे जीवन का पहला टर्निंग प्वाइंट था जो ऑफर यदि मैंने स्वीकार कर लिया होता तो आज मैं बिट्स पिलानी का डायरेक्टर होता किस्मत का वह दरवाजा में बंद कर चुका था जीवन में दूसरा मौका जीएलए इंजीनियरिंग कॉलेज के रूप में आया जहां इंटरव्यू के बाद मुझे ₹10000 का ऑफर दिया गया पर वही कहानी मेरे माता पिता ने कहा अब ₹10000 के लिए कहां जाओगे, तीसरा मौका मुझे इंजीनियरिंग कॉलेज अलवर के रूप में मिला एवं चौथा और अंतिम मौका मुझे अपने जीवन में मुंबई के एक इंजीनियरिंग कॉलेज ज्वाइन करने के लिए मिला मैंने सोचा था कुछ हो जाए मैं अब इस कॉलेज को जॉइन ही करूंगा मैं जा रहा था तो मेरी मां रोने लगी उन्हें लगा शायद इस बार उनका बेटा वापस नहीं आएगा उन्होंने कहा बेटा यह सब तुम्हारा ही है दो मकान है कौन देखेगा तब तो मुझे कुछ नहीं लगा लेकिन आज मैं महसूस करता हूं कि यह पेरेंट्स के द्वारा किया गया इमोशनल ब्लैकमेल ही था ……तो दोस्तों इससे सिर्फ एक ही सीख मिलती है कि माता-पिता को प्यार कीजिए लेकिन अपने कैरियर को भी उतना ही प्यार कीजिए एक अच्छा career आपको ढेर सारी अपॉर्चुनिटी देगा जिससे आप अपने माता-पिता के लिए कुछ कर सकेंगे😘🙏

Mohabbat

कमाल की मोहब्बत थी मुझसे उसको अचानक ही शुरू हुई और बिना बताये ही ख़त्म हो गई…shreen

मैं…

गुजारे होंगे तुमने, कई दिन, महीने, साल… जो काट ना सकोगे वह एक रात में हूं। गुफ्तगू कई दफा कई लोगों से की होगी तुमने, दिल पर जो लगेगी वह एक बात में हूं। भीड़ में जब तन्हा खुद को तुम पाओगे, अपनेपन का एहसास जो करा दे वह एक साथ में हूं। बिताएं होंगे तुमने कई हसीन पल सबके साथ में, जो भुला नहीं पाओगे वह एक याद में हूं।

दोस्त

हम सबका एक दोस्त होता है, एक क्षण भी अधूरा लगता है जिसके बिना, हर खुशी अधूरी है जिसके बिना। हम सबका एक दोस्त होता है, मां-बाबा को जो बिल्कुल ना भाता हो, फिर भी उससे बात करने से सुकून आता हो। हमें डांटता हो हमारी गलतियों पर, हर जीत अधूरी लगती हो जिसके बिना। हम सबका एक दोस्त होता है। चाहे वह मीलों दूर हो हमसे, पर दिल के बेहद करीब होता है। उससे मिलने की बेचैनी जब हो, तब-तब वो दरवाजे पर दस्तक देता है, यकीनन हम सबका एक दोस्त होता है।

जिंदगी में उनकी जगह….

समझ नहीं आता कि मैं अपनी जिंदगी में तुम्हें कहां पर रखू। सांसे उलझ जाती हैं अगर सांसों में तुम्हें रखता हूं। ख्वाइशें मचल जाती हैं अगर मन में तुम्हें रखता हूं। आंखें भर आती हैं अगर आंखों में तुम्हें रखता हूं। धड़कनें रुक जाती हैं अगर दिल में तुम्हें रखता हूं। नींदें रूठ जाती हैं अगर ख्वाबों में तुम्हें रखता हूं। समझ नहीं आता कि मैं अपनी जिंदगी में तुम्हें कहां पर रखू।….……shreen.